Thursday, 16 July 2015

हर कोई अधुरा.......

हर कोई अधूरा है
मेरी कविताओ जैसा तेरी
कहानियों
जैसा................

No comments:

Post a Comment