Friday, 17 July 2015

रामलीला.....

मै बचपन से लेकर अब तक
रामलीला देखता रहा खेलता रहा और
रावण के पुतले जलता रहा और
लोग
ताली बजाते रहे ।।
बस इक नाटक
जारी
रहा ।।
मेने देखा है की लोग राम लीला में भी रावण का किरदार निभाते है ।
हे राम
अगले वर्ष
रामलीला नहीं
राम-राज्य आ जाये ।।

No comments:

Post a Comment