Thursday, 16 July 2015

लोकतन्त्र......

लोकतन्त्र ................
में ......वो
पैरो से शुरू होकर
गर्दन पे
खत्म होता है
मैंने देखा है
जनसेवक से लोगो को नेता बनते ......

No comments:

Post a Comment