Thursday, 16 July 2015

डर....

जब मैं छोटा था
तो सुना था की जायदा न हँसो
जितना हँसोगे
उतना ही रोयोगे
बस
फिर मैं कभी कभी डर के हँसता था
और  फिर मैं
बच्चा नहीं रहा .......... बड़ा हो गया

No comments:

Post a Comment