Friday, 17 July 2015

जागो...

सोये हुए को जगाया जा सकता
जो मर गया उसे जगाया नहीं जा सकता  ।
क्योकि
मुर्दा कभी बोलता नहीं कभी सोचता नहीं जो जिन्दा होकर सोचता नहीं बोलता नहीं वो मुर्दा से बदतर है ।
जागो सोचो और उठो की हम सब जानते है की किस बात क्या हल है।

No comments:

Post a Comment