Wednesday, 5 August 2015

हाज़िर हो...

हाज़िर हूँ जनाब
हाज़री बड़ी जरूरी
है
हाज़िर हो कर भी वहा हाजिर नहीं होना यह
गैरहाज़िर है......
बचपन में हम क्लास में हाज़री बोलते थे
यस सर अब रजिस्टर में हाज़री लगते है कुछ लोग हाज़री भरते है
विकास के दौर में या अविशवास के इस महौल में  हम मशीन में अगूंठा लगा कर हाज़री लगते है
आदलत के बहार भी आवाज लगती है
...........हाज़िर हो।।
हर जगह कैमरे है
काश कोई कैमरा  कोई मशीन कोई रजिस्टर ऐसा भी होता  काम पे हाज़िर होते हुए भी जो गैरहाजिर होते है
उनकी गैर हाज़री
लगती
इसलिए..................हाज़िर हो .........

खुद में गैरहाजिर हूँ ।।

No comments:

Post a Comment