Thursday, 17 September 2015

बाजार

हर कोई घर से निकलता
कुछ खरीदने
या कुछ
बेचने
या फिर नगद  या
उधार
ये है
बाजार
कुछ ऐसे भी है
न लाभ
न हानि
ना हिसाब
न किताब
और सिर्फ खाली हाथ 
उनके लिए
सिर्फ इक चक्कर है 
बाज़ार
और शाम को घर आ कर सोचते है
धरती गोल है
बाकि सब के लिए धरती
चपटी तिकोनी
गज फुट इंच
और
ब्याज  है जो दिन और रात
को भी
घड़ी की सुई
के साथ
चलता रहता है
फिर भी
हर कोई
हर वक्त
है
खाली हाथ
और
बाज़ार ............... और ख्बाव ।।

1 comment:

  1. ਸਮੰਦਰ ਤੋਂ ਡੂੰਗੇ ਖਿਆਲਾਂ ਜਹੀ ਉਪਜ ਸਫ਼ੇ ਉਤਾਰੀ ਹੈ ਸ਼ਾਦ ਜੀ..🙏

    ReplyDelete