Monday, 16 May 2016

मेरी बेटी

शर्म
लज्जा
भय
गुलामी
बेबसी लाचारी और फटकार
दुनिया की बे मतलब की बातेँ को
सर पे उठा के घर से निकलती है.........मेरी बेटी  और हज़ारो सवालो का जबाब बन के जब शाम को घर लौटती है
तो मैं दूसरा साँस लेता हूँ
और मैने फिर भी इसका नाम
सृष्टि (रचना)
रखा है .........shaad

No comments:

Post a Comment