Sunday, 11 September 2016

आप

फलसफा ज़िन्दगी का
  बदलता रहा
मैं मैं  ना रहा तुम तुम न रहे
आज कल
हम
दोनों
इक दूसरे को आप कह के बुलाते है......shaad

No comments:

Post a Comment