Tuesday, 4 October 2016

चुपचाप

चुप चाप .....सी जिंदगी
शोर बहुत मचाती है
रोते हुए आती है रुला के चली जाती है

No comments:

Post a Comment