Thursday, 6 October 2016

वो

मुस्कराता है वो ग़म छुपाकर
हँसता है  वो आँसू दबाकर
तमाशा ए हुनर
जीवन  का  देख के
अक्सर .......
लोग कहते है की
ज़िन्दगी जीता है वो
इक बादशाह के जैसी...........

No comments:

Post a Comment