Wednesday, 22 March 2017

भगत सिंह

उस माँ
को मेरा प्रणाम जिसने उसे
भाग्य वाला कहा था
और जन्म दिया
जो
छोटी सी उम्र
में वो  कितना कुछ पढ़  गया
कितना कुछ लिख गया
कितना कुछ सीखा गया
बचपन में हथियार बोहने वाले बच्चे ने कितने बड़े विचार को जन्म दिया
वो मौत से पहले
किताब पढ़ रहा था
फिर पन्ना मोड़ा और चल दिया
आजादी का दीवाना
इससे बड़ी आजादी क्या होगी
मोक्ष क्या होगा
मौत मर गई
जीवन ज़िंदा हो गया .....…क्योकि
साँस लेने और जीवन जीने में कोई अंतर तो होता ही है
जिंदाबाद जिंदाबाद उसका इंकलाब
23 मार्च
वो पल है
जब इक वक्त ने जन्म लिया है
जो कभी गुजरे गा नही
हमारे हाथो में हमारी यादो में
हमारा मार्गदर्शन
बन कर
और हमेशा जवान
रहेगा
क्योकि वो जिन्दा है जिन्दा था और जिन्दा ही रहेगा
आओ उस खुली किताब को
पढ़े समझे
उस किताब का नाम है
भगत सिंह .............. 
(राजगुरु सुखदेव भगत सिंह  ज़िंदाबाद )

No comments:

Post a Comment