Thursday, 14 September 2017

हिंदी

भाषा में असली महत्व विचारों का होता है जैसे शरीर को वस्त्र की आवश्यकता होती है वैसे अच्छे विचारों को भाषा की आवश्यकता होती है इसलिए विचार और भाषा एक दूसरे के पूरक

No comments:

Post a Comment